डॉलर बनाम रुपया : रूपए की पिटाई का आप पर क्या असर ?

रुपया निचले स्तर पर, 9 मई को एक डॉलर 77.41 रूपए का 

रूपए में गिरावट की क्या वजह ?

विदेशी निवशकों ने इस साल भारतीय शेयर बाज़ारो से 1770 करोड़ डॉलर निकाले

रूपए में गिरावट का असर

आयात का भुगतान डॉलर में करना होता है इसलिए इम्पोर्टेड चीज़े महंगी

पेट्रोल, डीजल का पेमेंट भी डॉलर में, इसलिए ईधन भी महंगा होगा

कीमतें बढ़ने से महंगाई बढ़ेगी, विदेशों में पढाई पर ख़र्चा और बढेगा

दूसरे देशों की सैर करना भी महंगा

विदेशों से भारत में भेजी रकम का मूल्य अधिक होगा

निर्यात करने वालों को होगा फायदा.